महंगा पड़ा सड़क पर कूड़ा फेंकना, साफ करने को 80 किलोमीटर दूर से लौटना पड़ा

कोडागू टूरिज्म एसोसिएशन के महासचिव मदेतिरा थिम्मैया ने सबसे पहले सड़क के किनारे पड़े पिज्जा के डिब्बों को देखा था। उन्होंने मुंबई मिरर से बात करते हुए कहा, '' जब मैंने पैकेट देखा तो उसे खोलने का फैसला किया। किस्मत से मुझे उस डिब्बे में युवक का नंबर मिल गया। मैंने उसको फोन किया और उससे कहा कि वह दोबारा वापस आए और अपने कूड़े को उठाए।''