पराली जलाने की 3000 से अधिक घटनाओं ने दिल्ली की हवा की ज्यादा खराब

राजधानी में इस बार अक्टूबर में ही ठंड ने दस्तक दे दी है। इसके साथ ही बिना दिवाली ही इस साल अक्टूबर के महीने दिल्ली की हवा भी अधिक खराब हुई है। आलम यह है कि पिछले तीन सालों के मुकाबले इस साल अक्टूबर के महीने में दिल्ली में अधिक प्रदूषण दर्ज किया गया।केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के मुताबिक वर्ष 2020 के अक्टूबर महीने में दिल्ली की वायु गुणवत्ता 10 दिन बेहद खराब श्रेणी में दर्ज की गई। यह स्थिति तब है, जब इस साल दिवाली का त्योहार अक्टूबर के बजाय नवंबर महीने में होना है। वर्ष 2019 में अक्टूबर के महीने में चार दिन दिल्ली की वायु गुणवत्ता बेहद खराब श्रेणी में दर्ज की गई थी।