चमोली के तपोवन में टनल में फंसे सभी 16 लोगों को आईटीबीपी के जवानों ने किया रेस्क्यू

ऋषिगंगा ग्लेशियर के टूटने से आई बाढ़ पर सवार होकर आई मौत रैणी और तपोवन के बीच करीब एक घंटे तक नाचती रही। पहले ऋषिगंगा और फिर धौली गंगा में उफान मारती लहरों ने किसी को बचने का मौका नहीं दिया। जो भी चपेट में आया, उसे लील लिया। राहत और बचाव कार्य शुरू होने के बाद मलबे से निकल रहे शव बाढ़ की क्रूरता को बयां कर रहे हैं। बड़ी संख्या में लोग अब भी लापता हैं।