छेड़छाड़ के मामले में इंदौर हाईकोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

मंध्यप्रदेश की इंदौर हाईकोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है जो आने वाले वक्त में नजीर बनता नजर आ रहा है हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने छेड़छाड़ के मामले में फैसला सूनाते हुए शर्त रखी है कि आरोपी रक्षाबंधन पर पीड़िता के घर जाकर उससे राखी बंधवायेगा और रक्षा का वचन देगा। सभी पक्षो के तर्क सुनने के बाद जस्टिस रोहित आर्या की बेंच ने आरोपी विक्रम बागरी को 50 हजार की जमानत पर छोड़ने के आदेश के साथ जो अन्य शर्ते रखी उसमें एक शर्त यह भी है कि आरोपी रक्षाबंधन पर दिन में 11 बजे अपनी पत्नी को साथ लेकर पीड़िता के घर राखी व मिठाई लेकर जाएगा और पीड़िता से आग्रह करेगा पीडिता उसे भाई मान कर राखी बांधे आरोपी पीडिता को रक्षा का वचन दे ओर 11 हजार का उपहार दे साथ ही पीडिता के बेटे को 5 हजार के कपडे और मीठाईयां दे साथ ही फोटोग्राफी भी करवाये आरोपी को लिखित अंडरटेकिंग देनी होगी कि कोविड19 को देखते हुए केंद्र व राज्य सरकार द्वारा सोशयल डिस्टेंसिंग के साथ समय समय पर जारी निर्देशो का पालन करेगा। मामला उज्जैन जिले के भाटपचलाना थाना क्षेत्र का है।