एक साल बाद फिर प्रवासी मजदूरों का पलायन जारी

कोरोना की दूसरी लहर विकराल रूप ले चुकी है। मरीज इलाज के लिए दर-दर भटक रहे हैं लेकिन जिंदगी और मौत के बीच झूलते लोगों के हाथ लग रही है तो सिर्फ निराशा। सांसें अटक रही हैं लेकिन न ऑक्सीजन मिल पा रही है और न समय पर उपचार। दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की वजह से पिछले 24 घंटे में 25 मरीजों की मौत हो चुकी है। बताया जा रहा है कि अस्पताल के पास अब महज दो घंटे की ही ऑक्सीजन बची है और करीब 65 मरीजों की जान पर खतरे में है।